TV TRP क्या है?

हर टीवी देखने वाला व्यक्ति TV TRP( Television rating point) नाम से भलीभांति परिचित होगा, क्योंकि हम अक्सर सुनते हैं कि किसी चैनल के शो की टीआरपी( Television rating point) अचानक बढ़ गई या किसी शो की टीआरपी में भारी गिरावट आई है तो आज हम आपको विशेष रूप से बताएंगे कि टीआरपी का फुल फॉर्म क्या है (TV TRP Kya Hai?) और टीवी टीआरपी क्या है।

उससे पहले आपका ध्यान एक आकर्षक चर्चा की ओर ले जाते हैं। आपने टीवी पर कई सारे रियालिटी शो देखे होंगे जिसमें डांस प्लस, बिग बॉस और अन्य शो शामिल है जिनमें बिग बॉस की टीआरपी काफी रूप से सबसे ऊपर रहती है, तो बस उसी बात की चर्चा हम आपको बताएंगे कि टीवी टीआरपी(Television rating point) क्या है और किसी भी टेलीविजन चैनल पर बढ़ते और घटते टीआरपी का क्या असर पड़ता है।

TV TRP Kya Hai?

TV TRP Kya Hai?

टीवी टीआरपी( Television rating point) एक ऐसा पैमाना है जो किसी भी शो की लोकप्रियता को दिखाता है। मतलब इसके माध्यम से आपको यह आसानी से पता चल सकता है कि टेलीविजन पर कौन से चैनल पर कौन सा प्रोग्राम दर्शकों द्वारा सबसे अधिक या सबसे कम पसंद किया जा रहा है, जिन टेलीविजन चैनल को लोग ज्यादा देखना पसंद करते हैं उसकी टीआरपी बहुत हाई रहती है।

टीआरपी (Television rating point) इसलिए भी जरूरी है क्योंकि विज्ञापन की इस दुनिया में विज्ञापन का भंडार उन्हे.ही दिया जाता है जिस टेलिविजन शो की टीआरपी सबसे ज्यादा होती है।

टीआरपी( Television rating point) के माध्यम से पल-पल की खबर पता चलती है कि कब किस चैनल को कितने लोग देख रहे हैं, क्योंकि एक बात आपको स्पष्ट रूप से बता दें कि चैनल की टीआरपी का सीधा असर इसके कमाई पर पड़ता नजर आता है, क्योंकि इसके पास आय का एकमात्र साधन विज्ञापन है, जो अच्छी टीआरपी के बाद ही मिलता है।

कैसे होती है TRP की जांच

अब आपके मन मे एक और सवाल उठना लाजमी है कि टीआरपी की जांच किस तरह से होती है और कौन इसकी जांच करता है तो आपको बता दें कि भारत में टीआरपी की जांच इंडियन टेलीविजन ऑडियंस मेजर के द्वारा होता है, जो कि भारतीय चैनलों की टीआरपी को चेक करती है।

आप आपको हम बताते हैं कि किस तरह से किसी भी चैनल की टीआरपी की जांच की जाती है।

1. किसी भी चैनल की टीआरपी को जांच करने का सबसे पहला तरीका है “पीपुल मीटर” इसके तहत कुछ लोगों के घर पर एक ऐसी डिवाइस लगा दी जाती है जिससे हमें यह पता चलता है कि वह कौन से प्रोग्राम कितने समय के लिए देख रहे हैं। पीपुल मीटर में जो डाटा रिकॉर्ड होता है वही किसी चैनल की टीआरपी को बताता है।

2. किसी चैनल की टीआरपी को जांचने का दूसरा तरीका है पिक्चर मैचिंग जिसके अंतर्गत लोगों के द्वारा देखे गए किसी भी प्रोग्राम के पिक्चर के एक हिस्से को रिकॉर्ड कर लिया जाता है, जिस आधार पर टीआरपी की गिनती होती है।

टीआरपी (TV TRP) के बढ़ने या घटने से क्या असर पड़ता है

किसी भी चैनल को यह कतई पसंद नहीं होगा कि उसकी टीआरपी(Television rating point) में गिरावट आए, क्योंकि टीआरपी के बढ़ने और घटने दोनों से ही चैनल पर प्रभाव पड़ता है।

अगर आपका प्रोग्राम हाई टीआरपी की लिस्ट में है तो आपके पास ढेरों सारे विज्ञापन की कंपनियां अपने विज्ञापन देने आएंगी, जो आपकी आय का स्रोत बनता है, तो वहीं लो टीआरपी वाले टेलीविजन शो को कम विज्ञापन मिलने के कारण थोड़ा नुकसान झेलना पड़ता है, क्योंकि अगर आपके चैनल को अच्छी अच्छे ब्रांड के विज्ञापन दिखाए जाते हैं तो दर्शकों की उस में रुचि और दुगनी हो जाती है।

TV TRP का महत्व क्या है

1. यह सबसे महत्वपूर्ण इस संदर्भ में भी माना जाता है क्योंकि किसी भी चैनल की कमाई उसके टीआरपी पर ही निर्भर करती है।

2. टीआरपी अच्छे होने के कारण बड़ी-बड़ी कंपनियों के ऐड मिलने से चैनल को फायदा होता है।

3. ज्यादा टीआरपी वाले चैनल को ज्यादा कांटेक्ट दिए जाते हैं, जो उनकी कमाई को दोगुना कर देता है।

तो दोस्तों, ये था TV TRP Kya Hai? के बारे में ब्लॉग पोस्ट। मुझे उम्मीद है की अब आपको TV TRP को लेकर कोई भी प्रश्न मन में नहीं होगा। आप कमेंट में जरूर बतायें की ये आर्टिकल कैसा लगा आपको।

Previous articleदुर्गा चालीसा (Durga Chalisa)
Next articleClubhouse Android App की जानकारी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here